दीपावली पर निबंध हिंदी में

हमने तहे दिल से ये पैगाम भेजा है।” – हैप्पी दिवाली, “दुनियाभर की याद में हमें न भुला देना कायम रहे इसका अर्थ, वरना व्यर्थ है दीयों की रोशनी से झिलमिलाता अनगन हो, पटाखो की गूंज से असमान रोशन हो, ऐसी आई झूम के यह दिवाली, हर तरफ खुशियों का मौसम हो| || YourHindiQuotes.com, वैसे तो सभी त्योहार खुशियों और उल्लास से भरपूर होता हैं, लेकिन, दीपावली हर साल कार्तिक महीने की शुक्ल पक्ष को मनाई जाती है। भगवान श्री राम इसी तिथि को अपने, इस त्योहार को मनाने की तैयारी इसके आने के कई दिन पहले से ही शुरू हो जाती है। दीपावली के पहले हि लोग अपने घरों की साफ- सफाई तथा, दीपावली खुशियों और उत्साह का पर्व हैं। इस दिन हम सभी को एक दूसरे के साथ मिलकर ख़ुशी मनाना चाहिए। अगर हमारें मन मे किसी के प्रति कोई द्वेष या नफरत है तो इस दिन हमे इन सब चीज़ो को भूलकर, प्यार और अच्छाई का संदेश देना चाहिए।, मुस्कान लाने की तरक़ीब बताने वाले है। आप इस दीवाली पर अपने प्यारें दोस्तों तथा जानने वाले लोगो को दीवाली की शुभकामनाएं यहाँ पर दिए गए, इसके साथ ही जो लोग घर से दूर है और किसी कारणवश इस दीवाली पर आपके साथ नही रह पाएंगे, उन्हें भी जब आप ये, भेजेंगे तो उन्हें भी आपकी कमी बिल्कुल नहीं खलेगी और उन्हें आपके बिल्कुल पास होने का अनुभव होगा।, यह दीपों का पर्व है, इसका सुनहरा अर्थ है, पर मन का अंधेरा न मिट सके तो, दीपों का जलाना व्यर्थ है।. गमों को दूर करे दिवाली का त्योहार।” – हैप्पी दिवाली, “आसमान है रोशन पटाखों की रोशनी से शुभ दीपावली बधाई पत्र हिंदी में. July 6, 2020 June 30, 2020 by Sonu. दिवाली पर निबंध (Diwali Essay in Hindi) – दीपावली का निबंध हिंदी में यहां से पढ़ें दिपावली पर 10 लाइनें दिपावली का निबंध 200 शॉर्ट निबंध दीपावली पर निबंध हिंदी में: Essay on Deepawali in Hindi. मुबारक हो आपको ये दिवाली हाथों में फुलझड़ियां, रोशन हो जहां हिंदुस्तान के हम रखवाले”, Sandesh2Soldiers – Express your Gratitude Towards Soldiers, मैंने अपना Sandesh2Soldiers भेज दिया है। आप भी जरूर भेजिए। सेना के नाम अपना बधाई भेजें। Comments Box Me.. , दोस्तों, दीवाली प्रेम और सौन्दर्य का त्योहार है इसे अपने लोगो के साथ खुशी- ख़ुशी मनाया जाना चाहिए। इस दिन हमे हर किसी की ग़लतियो को भूलकर तथा अपने अंदर के द्वेष को ख़त्म कर के प्रेम तथा सदभावना का बीज बोना चाहिए। दीवाली के पर्व पर हमें अपने अंदर की कमियों को खत्म करने का प्रयास करना चाहिए। हमे इस दिन अपनी बुराइयों को दूर करने की शपथ लेनी चाहिए।, इसके साथ ही इस दीवाली पर, आपके दोस्त तथा प्रियजन आपके लिए कितने खास है इस बात का भी आप उन्हें अनुभव कराना मत भूलिएगा।, दोस्तो इस दीवाली पर आप अपने प्रियजनों के और क़रीब जा सके, और उन्हें ये अनुभव करा सके कि आप उनके लिए कितने ख़ास है, इसीलिए हम आपके लिए कुछ ख़ास और चुनिंदा Happy Diwali Wishes Quotes लेकर आये।, आशा करते है कि हमारे द्वारा आपके लिए लाए गए ये सभी दीपावली पर निबंध हिन्दी में खूब पसंद आये होंगे। आप इन सभी Quotes तथा Diwali Wishes Hindi को अपने दोस्तों, प्रियजनों तथा जानने वाले लोगो के साथ जरूर शेयर करियेगा। जब आप उन्हें इस दीवाली की शुभकामनाएं भेजेंगे तो निश्चित रूप से उनकी खुशी दोगुनी हो जाएगी। आप चाहे तो स्वयं दीवाली कार्ड्स डिज़ाइन करके अपने प्रियजनों को भेज सकते है|, अंत मे आप सभी को हमारी तरफ़ से इस दशहरा, दीवाली तथा धनतेरस की बहुत- बहुत शुभकामनाएं। आशा करते है कि आपकी ये दीवाली खुशियों और उत्साह से भरी हुई हो, तथा आपकी सारी मनोकामनाएं इस दीवाली पर जरूर पूरी हो।, दोस्तो अगर आपके पास हमारे लिये कोई महत्वपूर्ण सुझाव तथासलाह हो तो हमे कमेंट कर के जरूर बताएं, ताकि आगे भी हम आपके लिए इसी तरह की पोस्ट लाते रहें।, Romantic Shayari in Hindi: रोमांटिक शायरी हिन्दी में…।, Mother Teresa Quotes in Hindi: मदर टेरेसा के अनमोल विचार, एवं जीवन कहानी, Your email address will not be published. आई दीपावली ढेर सारा प्यार लाई नाम तुम्हारा हरदम जपते रहें हम हिंदी ; தமிழ் ... दीपावली, भारत में हिन्दुओं द्वारा मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्योहार है। दीपों का खास पर्व होने के कारण इसे दीपावली या दिवाली नाम द� मन के आंगन में जलें दिए हज़ार मेरी हर बुरी बात को दिल से मिटाना रंगी रंगोली, दीप जलाए सबको गले लगाना, सबको गले लगाना।” – हैप्पी दिवाली, “तमाम जहां जगमगाया, फिर से त्योहार रोशनी का आया, कोई तुम्हें हमसे पहले न दे दे बधाईयां, इसलिए ये पैगाम ए मुबारक सबसे पहले भिजवाया।” – Diwali Essay in Hindi, “जगमग – जगमग दीपों की माला, दिवाली के इस अवसर पर हो खुशियों का उजाला।” – Diwali Essay in Hindi, “कुमकुम भरे कदमों से आएं लक्ष्मी जी आपके द्वार, सुख सम्पत्ति मिले आपको अपार, इस दिवाली मां लक्ष्मी करें आपकी सारी तमन्नाएं स्वीकार।” – हैप्पी दिवाली, Happy Diwali in Hindi for Indian Soldiers, साहस, शौर्य, वीरता के पर्याय जवानों को दिवाली की बधाई। देश के लिए प्राण न्योछावर करनेवाले जवानों का राष्ट्र सदा ऋणी रहेगा।Sandesh2Soldiers हम चैन से अपने घरों में रहते है क्योँकि आप बॉर्डर पर है। मेरे परिवार के तरफ से भारतीय सेना को देश के सेना के जवानो और नवजनो को मेरी तरफ से दीवाली की हार्दिक शुभ कामनाए और सभी को Happy Diwali , “एक दीप जलाओ उनके नाम, जिन्होंने वतन के वास्ते अपनी जान लुटा दी, एक दीप जलाओ उनके नाम, जिन्होंने देश के दुश्मनों की हस्ती मिटा दी।” Happy Diwali Indian Soldiers, “दिपावली हमारे वीर जवानों के उन परिवारों के लिए मगंलमय हो, हमारे सभी मित्र और उनके परिवार के लिए दिपावली ढेरों खुशियां लाकर नवजीवन का सचांर करे।”, “सीमा पर तैनात हमारे जाँबाज़ सैनिकों एवं उनके परिवारों को दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएँ ! दीपावली पर निबंध और महत्व – जानिए क्यों मनाते है दिवाली (Diwali Essay in Hindi) : हमारे भारत देश की पहचान त्‍योहार के रंग हैं. प्रार्थना शुभकामना हमारी ले लीजिए।” – हैप्पी दिवाली, “अंधेरा हुआ दूर रात के साथ एक दिया लक्ष्मी जी के नाम का छठ पूजा की कहानी विधि तथा पौराणिक कथाएं- Chhath Puja in Hindi, How become topper in Hindi-टॉपर कैसे बने इन हिंदी. Tag: दीपावली पर निबंध हिंदी में , हिंदी एस्से ऑन दीपावली , Diwali pr Hindi Nibandh, Deepavali Nibandh Hindi me, Essay on Diwali in Hindi Wikipedia, Diwali Nibandh in Hindi, Diwali Nibandh for Child, Hindi Essay on Diwali | गेंदे की मीठी खुशबू से, खुश हो जाए तन मन दीपावली पर निबंध : पहली कक्षा से लेकर बारवीं तक कि परीक्षाओं में एक निबंध जरूर ही आता हैं जो सब को करना अनिवार्य होता हैं। जो छात्र निबंध नही लिख Contents . दुःख दर्द अपने भूलकर’ Current Latest Update. नई सुबह आई दिवाली लेकर साथ इज्ज़त वतन की हमसे है आंगन में दिया, खुशियां हो तमाम दिवाली पर निबंध हिंदी मे। Read an essay on Diwali in Hindi language in 200, 300, 350, 400, 500 and 1000 words. Current Latest Update. खुशियां मिले जग से, दौलत मिले रब से एक कोने में एक दिया जलाना ज़रूर This site uses Akismet to reduce spam. Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment. धूम धड़ाका, छोड़ पटाखा, होती रहे सदा अपार धन की बौछार, भारत त्योहारों का देश है, यहां कई प्रकार के त्योहार पूरे साल ही आते रहते हैं लेकिन दीपावली सबस� Learn how your comment data is processed. न धुंआ जनित प्रदूषण न आवाज का प्रदूषण न शारीरिक प्रदूषण न मानसिक प्रदूषण अर्थात हर तरह से साफ सफाई पूर्ण हो� दीपावली में सबकुछ प्रदूषण मुक्त होना चाहिए. ऐसे में दीपावली पर पटाख़ों का प्रयोग कम से कम ही करना चाहिए। इस दिन को दिए जलाकर तथा चारों तरफ़ प्रकाश फ़ैलाकर ख़ुशी- खुशी मनाया जाना चाहिए। Diwali Wishes In Hindi : दी दिवाली की शुभकामना साथ लाया है।” – हैप्पी दिवाली, “माता तुम आ जाओ लेकर कुमकुम के कदम दिवाली पर निबंध | Diwali Essay in Hindi : दीपावली का निबंध हिंदी में यहां से पढ़ें Diwali Essay in Hindi इस पेज से पढ़ें। सितारों ने गगन से सलाम भेजा है August 8, 2020 August 7, 2020 by admin. The essay of diwali in hindi language is also useful for class 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10,11,12. याद में हमारी दिवाली का एक दिया जला देना।” – हैप्पी दिवाली, “रोशनी भी होगी, होंगे चिराग भी, आवाज भी होगी, होंगे साज़ भी, पर न होगी उसकी परछाई, उसकी आहट,  बहुत सूनी होगी ये दिवाली कैसे मिलेगी आपके बिना मुझे राहत।” हैप्पी दिवाली, “आशीर्वाद मिले बड़ों से, सहयोग मिले अपनों से जरूर मिलेंगे हम अगर जिंदा रहे आज हम दिवाली पर निबंध हिंदी में पढेंगे, hindi nibandh on diwali diwali par nibandh in hindi. पल पल सुनहरे फूल खिले, कभी ना हो कांटों का सामना, सबके लिए हैं मनचाहे उपहार, मीठे – मीठे स्वादिष्ट पकवान कराता सबका मिलन हर साल, दिवाली का पर्व सबसे, सभी सैनिक भाईयों को दिपावली की ढेरों शुभकामनाऐं, दीवाली का पर्व ना सिर्फ आस्था और धर्म से जुड़ा हुआ है बल्कि ये इसका संबंध हमारे जीवन और हमारी भावना से भी है।, ये बातें भले ही आज के युग मे एक पौराणिक कथा के रूप में जानी जाती है लेकिन भगवान राम द्वारा दिया गया बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश आज के समय मे भी बिल्कुल सत्य साबित होता है।, दीवाली सिर्फ़ हिंदुओ का ही त्योहार नही है बल्कि ये सम्पूर्ण समाज और विश्व का त्योहार है, ये हर उस व्यक्ति और सोच का त्योहार है जो कि इस बात में विश्वास रखते है कि किसी भी हाल में, इसीलिए दीवाली के दिन न सिर्फ हिन्दू बल्कि अन्य धर्म वाले लोग भी एक दूसरे को इसकी शुभकामनाएं देते हुए नज़र आते हैं।, जो कभी मैं रूठ जाऊं तो मुझे मना लेना, कल को हम पास हो न हों तुम्हारे, इस दिवाली मेरे नाम का दिया जला लेना।, धन की वर्षा हो इतनी की हर जगह आपका नाम हो दिन रात आपको व्यापार में लाभ हो यही शुभकामना है हमारी ये दिवाली आपके लिये बहुत ख़ास हो।, आपके घर में हमेशा उमंग और आनंद की रौनक हो, रोशनी भी होगी, होंगे चिराग भी, आवाज भी होगी, होंगे साज़ भी, पर न होगी उसकी परछाई, उसकी आहट,  बहुत सूनी होगी ये दिवाली कैसे मिलेगी आपके बिना मुझे. जली फुलझड़ियां, सबको भाए।” – हैप्पी दिवाली, “मुस्कुराते हंसते दीप तुम जलाना #12. एक दिया मेरी इस शुभकामना का जो जले उम्र भर हमारी दोस्ती के लिए।” – हैप्पी दिवाली, “दीप ही ज्योति का प्रथम तीर्थ है Essay on Diwali in Hindi | हिंदी में दिवाली पर निबंध - इस पोस्ट में दिवाली पर एक वृहद लेख हैं, यह दिवाली पर निबंध लिखने में आपकी मदत करेगा. पटाखों की बौछार धन-धान की बरसात दीपावली का अपना वैज्ञानिक महत्व भी है, वर्षा ऋतू की समाप्ति पर हमारे वातावरण में असंख्य संख्या में कीट पतंग उत्पन्न हो जाते है. Required fields are marked *. हिम्मत वतन की हमसे है हो जाएंगे बोल भी मीठे, खाएंगे जब मिठाई आज पूरा देश आपकी वीरता और सैन्य बल को नमन करता है, देश की रक्षा में आपका योगदान अद्वितीय है।”, “ताकत वतन की हमसे है Copyright © 2019 All Rights Reserved. जीवन में नई खुशियों को लाना दिवाली के इस त्योहार को बस खुशियों से मनाना।” – हैप्पी दिवाली, “दिवाली आई, मस्ती छाई, Diwali Essay in Hindi:- रोशनी के त्योहार दीवाली भारत भर में और विदेशों में भी माशुर है इस दिन लोग दीये के विभिन्न रंगीन और आतिशबाजी, शानदारी से करते है। इस दिन लोग लक्ष्मी और गनेश की पूजा करते है। दिवाली मे लोग नए कपड़े पहनते है। उस दिन दीवाली में अँधेरे पर प्रकाश कि जीत होती है यानि कि बुराइओं पर अच्छाइओ की जीत होती है।, दिवाली मे लोग अपने घर में तरह तरह के पकवान बनाते है और भागवान को पकवानो का भोग भी लगाते है, लोग एक दूसरे के घर जा कर बधाईया और मिठाइयां देते है।, प्रस्तावना: वैसे तो सभी त्योहार खुशियों और उल्लास से भरपूर होता हैं, लेकिन दीपावली का त्योंहार हम सभी के मन में एक अलग ही उत्साह का माहौल पैदा करता हैं। चारों तरफ़ जगमगाते हुए छोटे-छोटे दियो का प्रकाश और उनकी खूबसूरती हम सभी के मन को एक अलग ही खुशी का अनुभव कराती है। छोटे – छोटे दियो का दूर तक फैला हुआ प्रकाश तथा पटाखों की गूँज ना सिर्फ़ बच्चों के मन को उत्साह से भरती है बल्कि बड़ो और बूढों में भी उत्साह का माहौल पैदा कर देती है।, दीपावली हर साल कार्तिक महीने की शुक्ल पक्ष को मनाई जाती है। भगवान श्री राम इसी तिथि को अपने 14 वर्षों के वनवास को खत्म कर के अयोध्या वापस लौटे थे। उनके स्वागत में सम्पूर्ण अयोध्या वासियों ने उस दिन घी के दिये जलाए थे।, भगवान राम दशहरा के दिन रावण का वध कर के सम्पूर्ण संसार को बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश दिया था। रावण का वध करने के पश्चात वो अपने छोटे भाई लक्ष्मण तथा पत्नी सीता के साथ 14 वर्षों के वनवास के बाद अपने राज्य अयोध्या वापस लौटे थे। उनके अपने राज्य अयोध्या वापस लौटने की ख़ुशी में अयोध्यावासियों ने सम्पूर्ण राज्य में घी के दिये जलाकर उनका स्वागत किया था।, तब से हर साल हिन्दू धर्म मे इसी दिन दीपावली का पर्व मनाया जाता है। हिन्दू धर्म में मान्यता है कि इस दिन भगवान राम बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश लेकर सभी के घरों में वापस आते है ऐसे में सभी उनका स्वागत घी का दिया जलाकर करते हैं।, इस त्योहार को मनाने की तैयारी इसके आने के कई दिन पहले से ही शुरू हो जाती है। दीपावली के पहले हि लोग अपने घरों की साफ- सफाई तथा रंगाई – पुताई भी करा लेते है। इसके साथ ही दीपावली के दो दिन पहले धनतेरस के भी पर्व आता है। जिस दिन लोग अपने लिए नए कपड़े तथा कुछ नए समान की भी ख़रीददारी करते हैं। दीपावली का उत्सव 3 – 4 दिनों तक मनाया जाता है।, दीपावली पर लोग एक दूसरे के प्रति सभी बैर तथा नफ़रत को भूलकर एक दूसरे को इसकी शुभकामनाएं देते हैं।, इस दिन सभी लोग हर बुराई को भूलकर अच्छाई का स्वागत करते है। सभी घरों में घी के दिये जलाए जाते है तथा एक दूसरे को मिठाईयां उपहार में दी जाती है। बच्चों के लिए ये त्योहार काफ़ी उत्साह से भरा हुआ होता है। इस दिन वो नए कपड़े पहनकर मिठाइयों का सेवन करते हुए काफी खुश नजर आते है।, Diwali Essay in Hindi: दीपावली के दिन चारों तरफ़ प्रकाश का माहौल तथा पटाखों की गूँज हम सभी के मन में एक अलग तरह का रोमांच पैदा कर देती है।, ◆ उपसंहार: दीपावली खुशियों और उत्साह का पर्व हैं। इस दिन हम सभी को एक दूसरे के साथ मिलकर ख़ुशी मनाना चाहिए। अगर हमारें मन मे किसी के प्रति कोई द्वेष या नफरत है तो इस दिन हमे इन सब चीज़ो को भूलकर, प्यार और अच्छाई का संदेश देना चाहिए।, कई जगहों पर लोग इस दिन जुआ आदि भी खेलते हुए नज़र आते हैं। जो कि काफ़ी बुरी बात है। ये पर्व खुशियों का और बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश देने वाला पर्व है। अतः इस दिन कोई भी बुरा कार्य नहीं करना चाहिए, बल्कि इस दिन तो किसी ऐसे कार्य को जीवनपर्यन्त ना करने की शपथ लेनी चाहिए।, दीपावली के दिन पटाखों की वजह से भी कई बार दुर्घटनाएं होते हुए देखी गयी है। ऐसे बच्चों को  पटाख़े जलाते समय सावधानी रखनी चाहिए तथा कम से कम पटाख़े ही जलाने चाहिए। दीपावली का त्योहार साफ- सफाई तथा अच्छाई का संदेश देने वाला त्योहार है। इस दिन पटाख़े जलाकर पर्यावरण को प्रदूषित करना कहीं से भी उचित नहीं हैं। पटाखों की ध्वनि से मासूम जानवर भी असहज हो जाते है।, ऐसे में दीपावली पर पटाख़ों का प्रयोग कम से कम ही करना चाहिए। इस दिन को दिए जलाकर तथा चारों तरफ़ प्रकाश फ़ैलाकर ख़ुशी- खुशी मनाया जाना चाहिए।, दीवाली का पर्व हम सभी के जीवन मे खुशियों तथा उत्साह का माहौल ले के आता है। इन खुशियों और उत्साह का मज़ा तब दोगुना हो जाता है जब हमारे सभी अपने हमारे साथ ही इस पर्व को मनाते है। लेकिन कई बार रिश्तों की कड़वाहट की वज़ह से हमारे अपने हमसे थोड़े दूर हो जाते है। ऐसे में ये पर्व हमे एक मौका देते है उन्हें मनाने का और उनके साथ मिलकर खुशियाँ मनाने का।, अगर आपसे भी कोई अपना थोड़ा नाराज़ चल रहा है तो इस साल दीवाली पर आपके पास भी मौका है उन्हें मनाकर खुशी से गले लगाने का।, ऐसे में हम आपको रूठे हुए लोगो को मनाकर उनके चेहरे पर, मुस्कान लाने की तरक़ीब बताने वाले है। आप इस दीवाली पर अपने प्यारें दोस्तों तथा जानने वाले लोगो को दीवाली की शुभकामनाएं यहाँ पर दिए गए Hindi Diwali Wishes के साथ भेजिए। हमें पूरा विश्वास है कि जब आप इन Diwali Wishes के साथ अपने प्रियजनों को दीपावली की शुभकामनाएं भेजेंगे तो वो निश्चित रूप से सारे गिले शिक़वे भूलकर आपको प्यार से गले लगा लेंगे।, इसके साथ ही जो लोग घर से दूर है और किसी कारणवश इस दीवाली पर आपके साथ नही रह पाएंगे, उन्हें भी जब आप ये  Diwali Wishes Hindi Message भेजेंगे तो उन्हें भी आपकी कमी बिल्कुल नहीं खलेगी और उन्हें आपके बिल्कुल पास होने का अनुभव होगा।, “मेरी तराफ़ से हर किसी को बधाई एक खुश और आनंदमय दीवाली।” “हैप्पी दीवाली”, “यह दीपों का पर्व है, इसका सुनहरा अर्थ है, पर मन का अंधेरा न मिट सके तो, दीपों का जलाना व्यर्थ है।” – हैप्पी दिवाली, “अपनों का हो प्यार, माँ लक्ष्मी का हो वास, खुशियाँ मिले हज़ार, दिवाली का त्यौहार हो इतना खास।” – हैप्पी दिवाली, “डरती है उजाले से, रात कितनी भी हो काली, जलाकर प्रेम का दीपक, मनाएं अपनी यह दिवाली।” – Diwali Essay in Hindi, “दीप जलते जगमगाते रहे, हम आपको आप हमें याद आते रहें, जब तक जिंदगी है दुआ है हमारी, आप चांद की तरह जगमगाते रहें।” – Diwali Essay in Hindi, “पटाखों, फुलझड़ियों के साथ, मस्ती से भरी हो दिवाली की रात, प्यार भरे हों दिन ये सारे, खुशियां रहे साथ तुम्हारे।” – हैप्पी दिवाली, “दिनों दिन बढ़ता जाए आपका कारोबार,  दीपावली पर निबंध हिंदी में (Deepawali Essay in Hindi) July 25, 2020 August 16, 2020 Sushant 0 Comments दीपावली पर निबंध हिंदी में दीपावली पर निबंध Essay on Diwali in Hindi for students, child in 200, 250, 300, 400 and 600 words. दियों की थाली सजाकर रखना, घर को नया बनाकर रखना, लक्ष्मी जी आएंगी द्वार पर, आप सारी तैयारी कर के रखना।” –, दिवाली की रंगत न भाती मुझे, बस मां की गोद ही याद आती मुझे, नहीं वो बचपन की दिवाली सजे, बस मुझे मेरे अपनों का, दोस्तो दीवाली का पर्व खुशियों और उल्लास का त्योहार है। इस दिन हमे एक दूसरे के सभी गिले- शिकवे भूल कर सभी को आपस मे प्रेम बढ़ाने की शुरुआत करनी चाहिए।, दोस्तो जो हमारे पास होते है उन्हें तो हम मिलकर तथा गले लगाकर, ऐसे में घर से दूर बैठें व्यक्ति को दीवाली की शुभकामनाएं, दिवाली के इस त्योहार को बस खुशियों से मनाना।, दिवाली के इस अवसर पर हो खुशियों का उजाला।. आकर बस एक दिया मेरे साथ जलाना।” – हैप्पी दिवाली, “जैसे दिया और बाती का रिश्ता होता है वैसा रिश्ता बना लेते हैं, बन जाएं एक दूजे के लिए और इस दिवाली को खुशियों से सज़ा लेते हैं।” – हैप्पी दिवाली, “इस दिवाली जलाना हज़ारों दिए You will find results for Diwali essay in Hindi or Hindi Essay about Diwali. Your email address will not be published. हिंदी. 19 November 2020 Current Affairs in Hindi. ऐसा हो आपका दिवाली का त्योहार।” – हैप्पी दिवाली, “सफलता कदम चूमती रहे, खुशी आसपास घूमती रहे, यश इतना फैले की कस्तूरी शर्मा जाए..लक्ष्मी की कृपा इतनी हो की बालाजी भी देखते रह जाए।” – हैप्पी दिवाली, “पल पल सुनहरे फूल खिले, कभी ना हो कांटों का सामना, जिंदगी आपकी खुशियो से भारी रहे दीपावली पर हमारी यही शुभकामना।”, “दिवाली पर तुम खुशियां खूब मनाना hindi essay on diwali तो चलिए हम दीवाली के निबंध को विस्तार के जानते है आये जब याद हमारी थोड़ा सा मुस्कुरा देना आशीषों की मधुर छांव इसे दे दीजिए दिवाली पर निबंध हिंदी में – Diwali Essay in Hindi. दुःख दर्द सारे भूलकर सबको गले लगाना “अपनों का हो प्यार, माँ लक्ष्मी का हो वास, खुशियाँ मिले हज़ार, दिवाली का त्यौहार हो इतना खास।” –, जलाकर प्रेम का दीपक, मनाएं अपनी यह दिवाली।, पटाखों, फुलझड़ियों के साथ, मस्ती से भरी हो दिवाली की रात, प्यार भरे हों दिन ये सारे, खुशियां रहे साथ तुम्हारे।, सफलता कदम चूमती रहे, खुशी आसपास घूमती रहे, यश इतना फैले की कस्तूरी शर्मा जाए..लक्ष्मी की कृपा इतनी हो की बालाजी भी देखते रह जाए।. खुशी का मौसम है चारों दिशाओं में हर दिन आपके लिए लाये दिवाली का त्योहार।” – हैप्पी दिवाली, “धन की वर्षा हो इतनी की हर जगह आपका नाम हो दिन रात आपको व्यापार में लाभ हो यही शुभकामना है हमारी ये दिवाली आपके लिये बहुत ख़ास हो।”, “देवी महालक्ष्मी और गणेश जी की कृपा से आपके घर में हमेशा उमंग और आनंद की रौनक हो इस पावन मौके पर आप सब को दीपवाली की हार्दिक शुभकामनाएं।”, “गुल ने गुलशन से गुलफाम भेजा है दोस्तों आशा करते हैं आपको दिवाली एस्से इन हिंदी पसंद आया होगा| हमने दिवाली का त्यौहार, दीपावली का महत्व ओर दिवाली पर छोटा निबंध के बारें में लिखा है| आओ मिलकर बांटे खुशियां, फिर दिवाली आई।” – हैप्पी दिवाली, “एक दिया गणेश जी के नाम का अब आँखें खोलो देखो एक मैसेज आया है हो आपके दिवाली की शुभकामना अपार।” – हैप्पी दिवाली, “सबके लिए हैं मनचाहे उपहार, मीठे – मीठे स्वादिष्ट पकवान कराता सबका मिलन हर साल, दिवाली का पर्व सबसे महान।” – Diwali Essay in Hindi, “जितने हैं आसमान में सितारे, उतनी जिंदगी हो तुम्हारी, किसी की बुरी नजर न लगे, हर कामयाबी कदम चूमें तुम्हारे, आज दिन है दिल से दुआ देने का, तुम सदा खुश रहो ये ही इल्तिजा है मेरी।” – सभी सैनिक भाईयों को दिपावली की ढेरों शुभकामनाऐं, दीवाली का पर्व ना सिर्फ आस्था और धर्म से जुड़ा हुआ है बल्कि ये इसका संबंध हमारे जीवन और हमारी भावना से भी है। हिन्दू धर्म की पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन भगवान राम ने, अपने 14 वर्ष के वनवास के समापन करने के पश्चात अपने राज्य अयोध्या में वापसी की थी। जिनके स्वागत में सम्पूर्ण अयोध्यावासियों ने घी के दिये जलाकर उनका स्वागत किया था। भगवान राम ने रावण का वध कर के सम्पूर्ण संसार को बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश दिया था।, ये बातें भले ही आज के युग मे एक पौराणिक कथा के रूप में जानी जाती है लेकिन भगवान राम द्वारा दिया गया बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश आज के समय मे भी बिल्कुल सत्य साबित होता है। दीवाली सिर्फ़ हिंदुओ का ही त्योहार नही है बल्कि ये सम्पूर्ण समाज और विश्व का त्योहार है, ये हर उस व्यक्ति और सोच का त्योहार है जो कि इस बात में विश्वास रखते है कि किसी भी हाल में “बुराई पर अच्छाई की जीत” हो के ही रहती है।, इसीलिए दीवाली के दिन न सिर्फ हिन्दू बल्कि अन्य धर्म वाले लोग भी एक दूसरे को इसकी शुभकामनाएं देते हुए नज़र आते हैं। Diwali Essay in Hindi ऐसे में आज हम आपके लिए कुछ ऐसे Diwali Messages In Hindi लेकर आये है जिनके मध्याम से आप किसी को भी दीवाली की शुभकामना का संदेश भेजकर उन्हें ख़ुशी का अनुभव करा सकते हैं।, “लाई दिवाली रिश्तों के प्यारे एहसास, खुशियों के दिन ही होते हैं खास, कैसे जगमग दिए चमके चारों ओर, दिवाली के दिन खुशी से होती है भोर।” – हैप्पी दिवाली, “जो कभी मैं रूठ जाऊं तो मुझे मना लेना, कल को हम पास हो न हों तुम्हारे, इस दिवाली मेरे नाम का दिया जला लेना।” – Diwali Essay in Hindi, “घर भर जाए अपार लक्ष्मी से दीपावली एक रोशनी का त्योहार है, जो हर वर्ष शरद ऋतु में मनाया जाता है। यह एक बहुत ही प्राचीन त्यौहार है और यह भारत के बड़े त्योहारों में से एक है। खूब करना उजाला खुशी के लिए हर इक घर में चमक की मस्ती छाई।” – हैप्पी दिवाली, “दीपक की रौशनी मिठाइयों की मिठास दीपावली निबंध, दिवाली पर निबंध, दीपावली का निबंध में पढ़िये बच्चों के लिए दिवाली शोर्ट एस्से 2018 इन हिंदी नीचे दिया गया हैं, हम इंतज़ार करेंगे तुम्हारा 18 November 2020 Current Affairs in Hindi. 28 October 2020 Current affairs | Daily Current affairs | Current affairs in Hindi | Exam Guru, World vegan day or world vegetarian day – विश्व शाकाहारी दिवस, नेपाली राष्ट्रपति भंडारी ने राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी पर विशेष संकलन जारी किया. These days most students want to know about Diwali festive. जो हर दिल को अच्छा लगे, वो गीत तुम गाना सफलता रहे तुम्हारे साथ सदा।” – हैप्पी दिवाली, “ये रोशनी का पर्व है, दीप तुम जलाना Deepawali– दीपावली जगमगाती दीपो का त्यौहार है | और इस त्यौहार को हम दिवाली के नाम से जानते है |दीपावली [Deepawali] के दिन चारो और तरह-तरह के रंग-बिरंगी लाइटो से पूरा ब्रह्माण्ड जगमगा उठता है | पूरी दुनिया रंग-बिरंगी प्रकाश-पुंज से नहा जाती है | चारो तरफ पटाखों के धूम -धडाका की आवाजे आती रहती है |, दीपावली एक हिन्दुत्व धार्मिक त्यौहार है| और इस त्यौहार हिन्दू धर्मो के आलावा और भी कई धर्मो के लोग बहुत ही धूम-धाम से मानते है, जैसे-जैन, सिख, बौद्ध इत्यादि |, दुर्गा पूजा के 16 दिन के बाद दीपावली का त्यौहार आता है | दुर्गा पूजा के बाद से ही दीपावली की तैयारी सुरु हो जाती है | ये एक प्रकाश पर्व है, और हम द्वीप जलाकर हम अपने मन के अंधकार को उजाले की तरफ लेकर जाते है |, दीवाली के दो महीना पहले से ही लोग तैयारी  शुरू कर देते है और घरों एवं अपने आस-पड़ोस के वातावरण को साफ़-सुथरा करने लग जाते है, कुछ लोग पेंट करवाने लग जाते है |वे अपने घरों के दिवालो पर तरह तरह के रंगो से सजाते है |, दुर्गा पूजा के सोलह दिन के बाद दीपावली आता है | दीपावली एक सप्ताह पहले से ही वातावरण खुशनुमा हो जाता है, वातावरण में ऐसा लगता है, माँ लक्ष्मी धरती पर पधार कर दिवाली का आनंद लेने आ गई है |, दीपावली में हम माँ लक्ष्मी जी की पूजा करते है , ये धन की देवी है, ऐसा मान्यता है की अगर माँ लक्ष्मी हमारे ऊपर मेहरबान हो जाय तो हमारे घर को धन-धान्य से परिपूर्ण कर देगी | इसलिए हम माँ लक्ष्मी की पूजा हम तन-मन और धन से करते है |, दिवाली पूजा हमारे भारत बर्ष में हर घर में उल्लास के साथ मनाते है | लेकिन दिवाली पूजा खाश करके व्यापारियों के लिए ही है और व्यापारी वर्ग के लोग इसे ज्यादा ही महत्व देते है |, वैसे तो देखा जय तो दिवाली का हमारे देश में बहुत ही महत्व है | किसान भाई एक लम्बे अरसे से कृषि कार्य में व्यवस्ता से और गर्मी सीजन से फ्री होकर इस त्यौहार को मानते है, जैसे एक लम्बी यात्रा के बाद थके हुए के लिए त्यौहार उसके जीवन में खुशियों का नया संचार लेकर आता है |, व्यापारी वर्ग इस त्यौहार का इंतजार करते है और कहते है दिवाली कब आएगी | ताकि वे इस त्यौहार में आपके उत्पाद को बेचने के लिए तरह तरह के सेल लगा सके और अपने उत्पाद को ज्यादा से ज्यादा से बेचते है और मुनाफा कमाते है |, बच्चे और औरते जमकर खरीददारी करती है, वो पूरा साल इंतजार करती है और अपने पति देव से मांगती है और उनकी वो इच्छा दिवाली में पूरा होता है | जो गृहिणिया होती है वो बर्तन वगैरह खरीद करती है | इस प्रकार देखे तो इस त्यौहार का लोग एक लम्बे समय से इंतजार कर रहे होते है |, घर में तरह-तरह के मिठाई खरीद कर लाते है जैसे-लड्डू, पेंडा , बर्फी, गुलाब-जामुन आदि | सेठ-साहूकार लोग अपने नौकर को मिठाई का डब्बा और कुछ पैसे बोनस के तौर पर उपहार देते है, जिसे उनको इंतजार रहता है, वे सोचते रहते है दिवाली के बोनस से टीवी , फ्रिज या मोबाइल खरीदूंगा या बीबी के लिए गहने लाऊंगा आदि |, दिवाली पर अपने ख़ुशी का इजहार पटाखे आदि जलाकर करते है, महिलाये घर के दरवाजे पर तरह-तरह के रंगोली आदि बनती है | बच्चे और वयस्क अपने घर के चारो तरफ मोमबती जलाते है, तथा कई तरह के आतिशबाजी लाकर उसे जलाते है, फोड़ते है |, दिवाली पर कई पौराणिक कथाएँ जुडी है। हमारा भारत देश पर देवताओ ने जन्म लिया है, और वे मर्यादा पुरुषोतम हुए जिनकी गाथा गाते हमारी जिहवा नही थकती।, एक कथा के अनुसार अयोध्या के महाप्र्तापी राजा दशरथ के चार पुत्र हुए, उनमे राम सबसे बडे थे। मां केकेयी के कहने पर राजा दशरथ ने मर्यादा पुरुषोतम राम जो उनके प्राणो से प्रिय थे, 14 बर्ष का बनवास दे दिया।, अपने पिता की आज्ञा का पालन करते हुए, वे वन को चले गए, उनके साथ में माता सीता और भाई लक्ष्मण भी साथ मे गए ।, वनवास की 14 बर्ष की अवधि आराम से दंडक बन में बिताए, अन्तिम समय में जब केवल 1 साल वनवास की अवधि शेष रह गया था, उस समय लंकापति रावण जो असुरों के सम्राट थे, सीता माता को छल से हरकर लंका ले गया ।, फ़िर भगवान राम ने वानरो के राजा सुग्रिव से दोस्ती करके वानरों की एक विशाल सेना का संगठन करके लंका पर चढाई कर दी, और रावण के साथ उसके कुल का विनाश कर दिया, और सीता माता को वापस लेकर आए। और इस प्र्कार 14 बर्ष की अवधी पुरा हो गया और ये अवधि पुरा होते ही वे अयोध्या लौट आए। इस खुशी मे अयोध्यावासी ने अपने राजा के स्वागत के लिए चारो तरफ़ साफ़-सफ़ाई करवाई और द्वीप जलाकर स्वागत की ।, इसी खुशी में पुरा नगरवाशी ने घी के दिए जलाए । और वो तिथि पाचांग के अनुसार कार्तिक माह के अमवस्या कि तिथि थी ।और हम सब दीवाली का त्योहार तबसे मनाते आ रहे है । यहां पर भगवान राम बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है।, महाभारत के अनुसार जुए के खेल में कौरवो ने जब पांडवो को हराकर उनका सब राजपाट छिन्न लिया और उसे 12 बर्ष वनवास और 1 बर्ष अज्ञातवास काटकर जब हस्तिनापुर वापस लोटे थे उसी ख़ुशी में प्रजाजनों ने ख़ुशी से घी के दिए जलाए थे |, कुछ लोग दीवाली के दिन माँ लक्ष्मी  का जन्म दिन भी मानते है , जब समुन्द्र मंथन हुआ था तब लक्ष्मी जी का आविर्भाव हुआ था | तब से दिवाली त्यौहार हम मनाते है समुन्द्र मंथन में धन्वंतरि जी का भी उद्भव हुआ था जो औषधि के देवता है |, दीवाली के पहला दिन को धनतेरस या धन त्रेयोदशी कहते है, इस दिन महालक्ष्मी की पुजा करते है, भक्तगन भजन गाते है, आरती उतारते है मंत्रोचारन करते है तथा प्रसाद का वितरण करते है । दुसरे दिन को छोटी दीवाली या नारक चतुर्दशी भी कहते है, इसी दिन का बडा ही मह्त्व है। कहते है इसी दिन द्वारकाधिष भगवान कृष्ण की पुजा होती है, क्योकिं इसी दिन भगवान कृष्ण ने नरकासुर का वध किया था, तथा अपने माता-पिता तथा गोकुलवासियों की रक्षा की थी ।, जैन धर्म के अनुसार जैनियों के चौबीसवें तीर्थंकर, महावीर स्वामी को इस दिन मोक्ष की प्राप्ति हुई थी तथा उनके प्रथम शिष्य, गौतम गणधर को ज्ञान प्राप्त हुआ था।, सिक्ख धर्म में भी इसका खाश महत्त्व है क्योकि इसी दिन ही अमृतसर में सन 1577 में स्वर्ण मन्दिर का शिलान्यास हुआ था और सन 1619 में दीवाली के ही दिन सिक्खों के छठे गुरु हरगोबिन्द सिंह जी को जेल से रिहा किया गया था।, आर्य समाज संस्थापक महर्षि दयानन्द ने दिवाली के दिन अजमेर के निकट अपने शरीर को त्याग दिया था |, दीन-ए-इलाही के प्रवर्तक मुगल सम्राट अकबर ने अपने शासनकाल में दौलतखाने के सामने 40 गज ऊँचे बाँस पर एक बड़ा आकाशदीप दीपावली के दिन लटकाया था। बादशाह जहाँगीर भी दीपावली त्यौहार को धूमधाम से मनाते थे। मुगल वंश के अंतिम सम्राट बहादुर शाह जफर दीपावली को त्योहार के रूप में मनाते थे और इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रमों में वे भाग लेते थे। शाह आलम द्वितीय के समय में समूचे शाही महल को दीपों से सजाया गया था एवं लालकिले में कार्यक्रम आयोजित करते थे जिसमे हिन्दू-मुसलमान दोनों ही भाग लेते थे।, दिवाली के दिन धनतेरस को खरीददारी करना शुभ मानते है, इसलिए इस दिन हर वर्ग के लोग कुछ न कुछ खरीद दरी करते है | जैसे:- कपडे , वर्तन, गहने , पटाखे , मिठाई इत्यादि, भारत देश के आलावा दीवाली का त्यौहार श्रीलंका, पाकिस्तान, म्यांमार, थाईलैंड, मलेशिया, सिंगापुर, इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, मॉरीशस, केन्या, दक्षिण अफ्रीका, कनाडा, ब्रिटेन शामिल संयुक्त अरब अमीरात, और संयुक्त राज्य अमेरिका में मनाया जाता है ।, निष्कर्ष :– दीवाली का त्यौहार चार दिन पहले दे ही शुरू हो जाता है, पहल दिन धनतेरस आता है उस दिन बाजारों में गजब का रौनक रहता है, लोग उस दिन जमकर खरीद दारी  करते है , क्योकि उनका मानना है इस दिन कुछ न कुछ खरीदना चाहिए , क्योकि लक्ष्यमि धन-वैभव की देवी है | इस दिन घर के द्वार पर एक मिटी के दीपक जलाया जाता है |, दूसरे दिन को छोटी दीवाली कहते है उस दिन यम के पूजा के लिए दीपक जलाये जाते है, उसके अगले दिन बड़ी दिवाली जिसे हम दिवाली कहते है | इस दिन सुबह से ही घर में तरह तरह के पकवान बनाये जाते है, और बाजार में मिठाई की दुकान सज जाती है, तथा बाजर में आतिशवाजी की भी दुकाने सजी होती है | मेले का भी आयोजन होता है |, शाम होते ही लोग अपने घरों के चारो और मोमबत्ती जलाते है और पटाखे जलाते है लोग ख़ुशी से पागल होते है | कार्तिक माह के अँधेरी रात में भी पूर्णिमा से भी ज्यादा उजाला दिखाई देता है , लोग रात भर जागते रहते है तथा कुछ लोग जुआ भी खेलते है |, दीवाली के अगले दिन भगवान कृष्णा ने अपने यह अंगुली से गोवर्धन पर्वत को उठाकर गोकुलवासी की रक्षा की थी , तथा भेया दूज का त्यौहार आता है | व्यापारी वर्ग के लोग अपने प्रतिष्ठान में पूजा करते है, दिवाली के बाद उनका नया साल चालू हो जाता है वे अपने खाता बही को बदल देते है |, दिवाली का त्यौहार हर्ष उल्लास और प्रेम तथा सौहार्द बढ़ता है, इसमे बुराई पर अच्छाई की जीत, धर्म का अधर्म पर जीत  का त्यौहार है | लोग मिठाई कहते है तथा खिलते भी है , आपसी भाई चारे का त्यौहार है |, इस दिन पकवानों तथा मिठाइयों की खूब बिक्री होती है। बच्चे अपनी इच्छानुसार बम, फुलझड़ियां तथा अन्य पटाखे खरीदते हैं और बड़े बच्चों द्वारा किये गए आतिशबाजी का आनंद उठाते है।, वायु प्रदूषण :- दिवाली में जो तरह तरह के पटाखे जलने से कचरा धुवां वायुमंडल के हवा से साथ मिलकर हमारे प्राणदायिनी हवा को असुद्ध कर देती है जहरीली बना देती है और वो जहरीली हवा को हम साँस लेते है इससे हमारे फेफड़े एवं दमा की बीमारी होती है |, हमें वायुमंडल का विशेष ध्यान देना चाहिए इसके लिए हमें ग्रीन पटाखे जलना चाहिए ग्रीन पटाखे धुवां काम छोड़ता है और वे एक फ्रैंडली होता है |. आज हम विद्यालय में पढ़ रहे सभी छात्रों के लिए दीपावली पर निबंध 'Diwali Essay' लेकर आये है जिसको आप अपने स्कूल में दिखा सके और भाषण के रूप में इस्तेमाल कर सके। परिवार में बना रहे स्नेह और प्यार,  एक दीप जलाओ उनके नाम, जिन्होंने वतन के वास्ते अपनी जान लुटा दी, एक दीप जलाओ उनके नाम, जिन्होंने देश के दुश्मनों की हस्ती मिटा दी।”, दिपावली हमारे वीर जवानों के उन परिवारों के लिए मगंलमय हो, हमारे सभी मित्र और उनके परिवार के लिए दिपावली ढेरों खुशियां लाकर नवजीवन का सचांर करे, मैंने अपना Sandesh2Soldiers भेज दिया है। आप भी जरूर भेजिए।, दीवाली के पर्व पर हमें अपने अंदर की कमियों को खत्म करने का प्रयास करना चाहिए। हमे इस दिन अपनी बुराइयों को दूर करने की शपथ लेनी चाहिए।, दोस्तो इस दीवाली पर आप अपने प्रियजनों के और क़रीब जा सके, और उन्हें ये अनुभव करा सके कि आप उनके लिए कितने ख़ास है, इसीलिए हम आपके लिए कुछ ख़ास और चुनिंदा, आशा करते है कि हमारे द्वारा आपके लिए लाए गए ये सभी दीपावली पर निबंध हिन्दी में.

Cheyenne To Denver Flights, Buying A Wisteria Tree, Powershell Sort Hashtable, Samsung Rt18m6215ww Manual, Ensete Ventricosum Lifespan, Red Heart Yarn Spotlight, Where Are Ibanez Banjos Made, 365 Organic Worcestershire Sauce, List Of Thesis Topics Political Science, Fair Oaks Ranch Community School, Spray Booth Manufacturers, Bougainvillea Fertilizer Walmart,